#54 दिल्ली दंगा
Delhi Dange February 2020

#54 दिल्ली दंगा

काश्मीर से हटी क्या धारा तीन सौ सत्तर, भडकाकर लोगों को दिल्ली पर बरसा दिया पत्थर, जमाना बेबाक निष्ठुर ढंग से देखता रह गया, और जमाने ने जमाने को आइना…

0 Comments
#53 स्मृति
poem on memory

#53 स्मृति

क्यों स्मृति यूँ सताती। जग में न कोई वैरी दूजा, पल में रुलाती पल में हसाती, पल में मजबूर सोंचनें को करती, हर पल यह एहसास जताती, क्यों स्मृति यूं…

0 Comments
#52 हिन्दुस्तान
hindustan india bharat

#52 हिन्दुस्तान

फतवे लगते हैं तो लगनें दो । मुझे गुरेज नहीं ठेकेदारों से, नहीं परवाह मुझे कौम किरदारों से, मैं हिन्दुत्व पर भी चाहे गर्व न करूं, पर परहेज नहीं भारत…

1 Comment
#51 स्वागत (welcome) 2020
Happy New year 2020

#51 स्वागत (welcome) 2020

साल का दिन आखिरी था,खयालों में खो के बिताया है, जो साल भर संग हुआ, सोंचा क्या खोया क्या पाया है। अभी कुछ पलों के बाद, ईशवी सन नया आयेगा,…

0 Comments