#42-हैलो!

#42-हैलो!

0

हैलो हैलो कह कर के,
दुनिया में सबसे पिछे थे,
अब बोलो बोलो कह कर के,
दुनिया को पीछे छोड रहे ।
बन बुधिया कभी मिल्खा,
कभी सचिन रिकार्ड तोड रहे,
कभी बन कर के देश भक्त,
देश द्रोही को हम फोड रहे ।

जय माहिस्मति जय माहिस्मती
हर ओर अब हम बोल रहै,
महिन्दर और अमरिन्दर
भल्लाल से आगे डोल रहे,
जो सच्चा वह मर जाता
झूठा राज सुख भोग रहे,
अन्त भले जीते सच्चाई
पर सच देखो झोल रहे ।

 


सम्पूर्ण कविता सूची


Poem in hindi

Hindi poem on hello.

बखानी हिन्दी कविता के फेसबुक पेज को पसंद और अनुसरण (Like and follow) जरूर करें । इसके लिये नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक करें- 

Bakhani, मेरे दिल की आवाज – मेरी कलम collection of Hindi Kavita

Like and subscribe Youtube Chanel 

Bakhani hindi kavita मेरे दिल की आवाज मेरी कलम

Hindi Poem on Hello World is saying Hello to INDIA

This Hindi Poem explains that World is saying Hello to INDIA now and following on each and every moment. This is a proud feeling moment. But by the word chosen here awakes a little bit of comic sense in the poem in hindi. Hindi Poem on Hello India is a deshbhakti poem in hindi

0 0 vote
Article Rating
0
Total Page Visits: 439 - Today Page Visits: 1
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

jk namdeo

मैं समझ से परे। एकान्त वासी, अनुरागी, ऐकाकी जीवन, जिज्ञासी, मैं समझ से परे। दूजों संग संकोची, पर विश्वासी, कटु वचन संग, मृदुभाषी, मैं समझ से परे। भोगी विलासी, इक सन्यासी, परहित की रखता, इक मंसा सी मैं समझ से परे।