#56 भारत और कोरोना के खिलाफ जंग
corona and india

#56 भारत और कोरोना के खिलाफ जंग

0

जग आश लगाए देख रहा,
सायद कोई इक राह मिले,
जनता कर्फ्यू व लाकडाउन से,
कोरोना से सब बच निकले,
पर हम उन्मत्त चूर नशे में,
क्यों भला कोई अपील सुनें,
तुम क्या कहते जग क्या कहता,
चाहे ऐसे कितनें प्रश्न मिलें।

अनुशासन सायद न सीखा,
न कदर करें अनुशासन की,
बात को जरा हम ही न सुनें,
और गलती सारी प्रशासन की,
किसमें हिम्मत जो फरमान सुनाए,
क्या करना ये हमें बताए,
मर्जी अपनी अब मरना है,
जरूरत क्यों हमें सुधरना है,
परिवार की भला खुद क्यों सोंचे,
करे जिसको जो करना है,
आज खाली सडक जो मिली,
सायद ऐसी फिर न मिले।

राजनीति हर रोम में बसी,
वर्दी की कदर नहीं,
क्या क्या संग में हो सकता,
है सायद इसकी खबर नहीं,
उन्मत्त नशे में चूर जायजा-
लेने घर से निकल पडे,
कुछ मजबूर को छोड कर,
सायद यह अवसर फिर न मिले।

 


–>सम्पूर्ण कविता सूची<–


Facebook page link

बखानी हिन्दी कविता के फेसबुक पेज को पसंद और अनुसरण (Like and follow) जरूर करें । इसके लिये नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक करें- Bakhani, मेरे दिल की आवाज – मेरी कलम collection of Hindi Kavita Like and

Youtube chanel link

subscribe Youtube Chanel Bakhani hindi kavita मेरे दिल की आवाज मेरी कलम

Explanation about the hindi poem on corona

This hindi poem on epidemic express the thought about the fight against covid.

#bakhani #hindi poem on corona

#fighting-corona

#WHO

#Corona-warriors

#covid19

India Fighting Corona – A hindi poem

Hindi poem on corona, Covid19 a apidimic caused with corona virus. India is fighting corona with corona warriors and trying to escape.

 

0 0 vote
Article Rating
0
Total Page Visits: 761 - Today Page Visits: 1
Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
vijay Akhil
vijay Akhil
5 months ago
0

great the expressions are great. really a hidden message to the society, what we are doing.

0

jk namdeo

मैं समझ से परे। एकान्त वासी, अनुरागी, ऐकाकी जीवन, जिज्ञासी, मैं समझ से परे। दूजों संग संकोची, पर विश्वासी, कटु वचन संग, मृदुभाषी, मैं समझ से परे। भोगी विलासी, इक सन्यासी, परहित की रखता, इक मंसा सी मैं समझ से परे।