कविता की हाइकू विधा(Haiku)

Haiku is a japani pattern of poem writting. हाइकू मूल रूप से प्रकृति आधारित कविता लिखनें की जापानी विधा है, परन्तु वर्तमान में हिंदी कविता लिखनें हेतु इस विधा का बहुतायत से प्रयोग किया जा रहा है तथा यह विधा प्रचलित भी हो रही है। इस विधा में किता की संरचना मूल रूप से वर्णों की संख्या का आधार होती है।

हाइकू विधा में हिंदी कविता लिखनें के नियम (Rule of Haiku pattern)

जैसा कि ऊपर बताया जा चुका है  कि कविता की संरचना मूल रूप से वर्णों या शब्दों की संख्या पर आधारित है। इस विधा में कविता लिखनें के लिए निम्न नियमों को ध्यान में रखना नितान्त आवश्यक है-

  1. कविता में कम से कम 5 खण्ड (paragraph) होते हैं इससे अधिक कितनें भी परन्तु विषम संख्या में ही होना चाहिए ।
  2. प्रत्येक खण्ड (paragraph) में 3 पंक्तियाँ होती हैं।
  3. खण्ड (paragraph) की प्रथम पंक्ति में 5 वर्ण होते हैं।
  4.  द्वितीय पंक्ति में 7 वर्ण होते हैं।
  5. खण्ड (paragraph) की तृतीय पंक्ति में 5 वर्ण होते हैं।
  6. यह आवश्यक नहीं कि इस विधा में लिखी कविता में प्रत्येक खण्ड एक दूसरे से सम्बद्ध हो या तुकान्त हो पर यदि सम्पूर्ण कविता में सम तुकांत होता है या फिर यह पूर्ण रूप से एक ही विषय में गुथी होती है तो कविता में चार चाँद लग जाते हैं। no
  7. पुनः यदि कविता में सम तुकान्त हो तो कविता पढनें में एक अलग ही अनुभव का एहसास देती है।

Rule of Haiku pattern poem writting

  1. Poem of odd paragraph minimum 5 paragraphs.
  2. Every paragraph contains 3 lines.
  3. The first line of paragraph contains 5 characters.
  4. The second line of paragraph contains 7 characters.
  5. The third line of paragraph contains 5 characters.
  6. limitation  of connection of one paragraph to another but individually all paragraphs should have their own meaning.
  7. If rhythms appears then it is good for the poem.

In hindi This pattern is used to express all types of thoughts of all subject. But if used for nature it is good.

#63 कोरोना से सीख (Haiku pattern)

Haiku विधा ***5 ***7 ***5 विधा- हाइकु विषय- कोरोना से सीख(Learn with corona)   थमी रफ्तार, कोरोना सा घातक, है हथियार। जग देखता, फिर सोंचता गूढ, क्या हैं तैयार? भाग…

0 Comments