#48 दीवाली
parampara aur sanskriti ke gyan ki kami hai desh me

#48 दीवाली

अरे ओ आई.टी. डेवलपर देश के ! कर दो डेवलप ऐप नया, चौगुनी हो जाए खुशहाली, बिना पटाखोंं बिना शोर के प्रकृति सुरक्षित हो दीवाली। सुप्रीमकोर्ट का फैसला है, पटाखे…

1 Comment
#47 कटी पतंग सी कहानी मेरी
Poem on life expressing with example as kite and life

#47 कटी पतंग सी कहानी मेरी

कटी पतंग सी कहानी मेरी! न ठौर है न ठिकाना रुकने का, हवा के झोंके से इधर-उधर हो जाए, बीत गए बचपन के वो दिन, देखते भटकते बीतती जवानी मेरी,…

0 Comments
#46 पुष्प और मोहब्बत
do not pluck the flower

#46 पुष्प और मोहब्बत

पुष्प पर बेरहमी दिखा कर, चल दिये इश्क का इजहार करने, कम्बख्त इश्क बरकरार रखने को, चल दिये पु्ष्प बेकार करनें । क्या कभी तूनें कहीं पर, बेरहमी से प्यार…

0 Comments