Leave a comment
 Continue Reading...
Posted in hindi poems

#6-क्या मुझे हक़ नहीं?

(Do I not DESERVE?) ज़िन्दगी के पहलू क्यूँ इतने उलझे से लगते है? क्या चेताती आसमान से गिरती वो आग…