Leave a comment
 Continue Reading...
Posted in hindi poems

मंजिल क्या है

ऐ पवन ! ठहर जरा, तू हि बता तेरी मंजिल क्या है? तू कभी सोंचता है, तेरे भाग्य में लिखा…