Leave a comment
 Continue Reading...
Posted in hindi poems

#20.मैं बुन्देलखण्ड हूँ रो रहा।

न देखी किसी ने दशा वो मेरी, बस हंसते रहे मुस्कुराते रहे, मेरी दशा को उथला दिखा, जग को धता…