#19.happy-holi

इतिहास के पन्नों तक सिमट कर रह जाएगी यह होली।
भविष्य में होली के एण्ड्रयड ऐप होंगे,
लोग रंग विरंगी तस्वीरें भेजेंगे एक दूजे को,
गुजिया पपडी की जगह चाकलेट खाएंगे वो,
मुस्कुराएंगे चले जाएंगे यू हि न कहेंगे हैप्पी होली,
इतिहास के पन्नों तक सिमट कर रह जाएगी यह होली।

Author: Jitendra Kumar Namdeo

मैं समझ से परे। एकान्त वासी, अनुरागी, ऐकाकी जीवन, जिज्ञासी, मैं समझ से परे। दूजों संग संकोची, पर विश्वासी, कटु वचन संग, मृदुभाषी, मैं समझ से परे। भोगी विलासी, इक सन्यासी, परहित की रखता, इक मंसा सी मैं समझ से परे।

1 thought on “#19.happy-holi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *