love-flower

पुष्प और मोहब्बत

Category : hindi poems

पुष्प पर बेरहमी दिखा कर,
चल दिये इश्क का इजहार करने,
कम्बख्त इश्क बरकरार रखने को,
चल दिये पु्ष्प बेकार करनें ।
क्या कभी तूनें कहीं पर,
बेरहमी से प्यार पाया है,
पुष्प पर बेरहमी दिखा कर,
क्यों किसी से प्यार जताया है।
जो पुष्प सी नाजुक प्रकृति पर,
यूंँ बेरहमी दिखाएगा,
सोंच कैसे लिया तुमनें,
तुमसे दरिया दिली दिखाएगा ।