शांत तो अच्छे

हंसते रहो तो तुम अच्छे जो बोल दिया तो जग रूठेगा
चुप सहते रहो तो तुम अच्छे, कुछ बोल दिया तो जग रूठेगा।

Problem with downloading content of the poem. Problem will be solved soon by administrator.

Keep visiting, liking and share poems…

Author: Jitendra Kumar Namdeo

मैं समझ से परे। एकान्त वासी, अनुरागी, ऐकाकी जीवन, जिज्ञासी, मैं समझ से परे। दूजों संग संकोची, पर विश्वासी, कटु वचन संग, मृदुभाषी, मैं समझ से परे। भोगी विलासी, इक सन्यासी, परहित की रखता, इक मंसा सी मैं समझ से परे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *