Leave a comment
 Continue Reading...
Posted in hindi poems

#4-क्या-हम-आजाद-हैं

देश हुआ आजाद हुए अब, हो गए हैं दिन इतने, जो सच पूछो तो दिल से बोलो, आजाद रहे तुम…

 Leave a comment
 Continue Reading...
Posted in hindi poems

#3-बखानी-एक परिचय

(Bakhani: An Introduction) बखानी संग्रह उन बातों का, जिन बातों को सब जानते हैं, अच्छा बुरा पहचानते हैं, फिर भी…

 Leave a comment
 Continue Reading...
Posted in hindi poems

#2-मन अशांत पक्षी का कलरव।

(Mann Ashant Pakshi Ka Kalrav) मन अशांत पक्षी का कलरव। पतझड़ फैला फूला शेमल, हलचल फैली फुदक गिलहरी, कोयल कूके…

 1 Comment
 Continue Reading...
Posted in hindi poems

#1–मा [ Mother-maa]

मा बोले बेटे से :- उठ बेटा दुनिया देख, दुनिया देख रही तुझको, मत जा ज्यादा दूर मा से, ममता कह…